उपचारात्मक मूल्यांकन क्या है?

हमारे "CTET PREPRATION" Whatsapp ग्रुप को अभी Join करें......CLICK HERE

उपचारात्मक मूल्यांकन क्या है? उपचारात्मक मूल्यांकन मूल्यांकन का एक प्रकार होता है। इस प्रकार के मूल्यांकन में बालकों के शिक्षण कार्य में होने वाले कठिनाई अस्तर को पता लगाया जाता है तथा उसके बाद उन कठिनाइयों स्तर को दूर करने के लिए अलग-अलग शिक्षण विधियों का उपयोग किया जाता है।

उपचारात्मक मूल्यांकन क्या है?

अर्थात, उपचारात्मक मूल्यांकन में बालक के कमजोर पक्षों को चिन्हित किया जाता है तथा उस पक्षों को सुधार करने के लिए अलग-अलग अधिगम कौशलों, शिक्षण विधियों का उपयोग किया जाता है जिससे कि बालक का कमजोर पक्ष को सुधार किया जा सके। इस प्रकार के मूल्यांकन को उपचारात्मक मूल्यांकन कहा जाता है।

यदि आप  CTET या  TET EXAMS की तैयारी कर रहें हैं तो RKRSTUDY.NET पर TET का बेहतरीन NOTES उपलब्ध है NOTES का Link नीचे दिया गया है :-

निदानात्मक मूल्यांकन क्या है?

यह मूल्यांकन शिक्षण कार्य के साथ-साथ किया जाता है। इस मूल्यांकन में यह पता लगाया जाता है कि जो विद्यार्थी पढ़ाई के दौरान असफल होते हैं उन विद्यार्थियों को असफलता के कारण का पता लगाया जाता है।

मूल्यांकन क्यों जरूरी होता है?

यह एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके द्वारा बालकों के प्रगति अस्तर का पता लगाया जाता है। मूल्यांकन अधिगम को सरल एवं सुगम बनाने की कार्य करता है। मूल्यांकन से यह पता लग जाता है कि बालक कहां पर समझता है। तथा कोई कोई ऐसा भी तथ्य होता है जो बालक समझने में असमर्थ होता है यह बात मूल्यांकन के द्वारा ही पता चल पाता है।

जिस टॉपिक को समझने में बालक को कठिनाई होती है यह बात मूल्यांकन से पता लग जाता है तथा इसके फलस्वरूप शिक्षक उस टॉपिक को अन्य तरीकों से विद्यार्थियों को समझाने का कोशिश करते हैं इससे यह पता चलता है कि शिक्षक को शिक्षण विधि के लिए मूल्यांकन का होना जरूरी है।

उपचारात्मक मूल्यांकन क्या है?

अगर किसी वर्ग के मूल्यांकन के परिणाम में 90% बच्चे सफल होते हैं तथा 10% बच्चे और सफल होते हैं तो ऐसा माना जाता है कि 10% बच्चे में कमी है जिसके कारण हुए और सफल हुए हैं।परंतु दूसरी तरफ अगर 90% बच्चे और सफल होते हैं और केवल 10% बच्चे ही सफल होते हैं तो यह बात को दर्शाता है कि कहीं ना कहीं बच्चे में कमी ना होकर शिक्षण व्यवस्था में कमी है जिसके कारण 90% बच्चे असफल हुए हैं।

मूल्यांकन के उद्देश्य क्या है?

  • (Evaluation) मूल्यांकन के द्वारा बालकों की प्रगति स्तर का पता लगाया जाता है।
  • छात्रों के विकास को निरंतर गति देना मूल्यांकन का उद्देश्य है।
  • बालकों के योग्यता, कुशलता, क्षमता तथा गुण इत्यादि का पता मूल्यांकन के द्वारा लगाया जाता है।
  • शिक्षकों की कुशलता एवं सफलता का पता भी मूल्यांकन के द्वारा लगाया जाता है।
  • मूल्यांकन के द्वारा अध्ययन एवं अध्यापन दोनों को प्रभावशाली बनाया जाता है।
  • उपरोक्त सारी बातें मूल्यांकन का उद्देश्य है।

Read More –

CTET PREPRATION WHATSAPP GROUP Join Now