आज के इस लेख में आप सभी लोग औपचारिक शिक्षा तथा अनौपचारिक शिक्षा एवं निरौपचारिक शिक्षा बारे में अध्ययन करेंगे। इसलिए के माध्यम से आप जानेंगे कि औपचारिक शिक्षा क्या है? अनौपचारिक शिक्षा क्या है एवं निरौपचारिक शिक्षा क्या है?

औपचारिक शिक्षा तथा अनौपचारिक शिक्षा एवं निरौपचारिक शिक्षा क्या है?

शिक्षा को मुख्यता तीन भागों में बांटा गया है:-

1. औपचारिक शिक्षा(Formal Education)

2. अनौपचारिक शिक्षा (Informal Education)

3. निरौपचारिक शिक्षा ( Non- Formal Education)

औपचारिक शिक्षा क्या है?

औपचारिक शिक्षा वह शिक्षा है जो एक निश्चित स्थान पर, निश्चित लोगों के द्वारा निश्चित पाठ्यक्रम तथा निश्चित समय में संपन्न की जाती है उसे औपचारिक शिक्षा कहते हैं?

औपचारिक शिक्षा के संसाधन

औपचारिक शिक्षा का मुख्य स्थान विद्यालय परिसर है। पुस्तकालय, चित्र भवन, यह सभी की औपचारिक शिक्षा के साधन है।

औपचारिक शिक्षा के विशेषताएं

  • औपचारिक शिक्षा कक्षा-शिक्षण प्रणाली है।
  • औपचारिक शिक्षा व्यवस्था में अध्यापक और विद्यार्थी कक्षा कक्ष में आमने सामने होते हैं।
  • औपचारिक शिक्षा से प्राप्त शिक्षा का एक उद्देश्य निश्चित होता है।
  • औपचारिक शिक्षा का एक समय निश्चित होता है?
  • इस प्रकार के शिक्षा का पाठ्यक्रम भी निश्चित होता है।
  • औपचारिक शिक्षा एक निश्चित जगह पर दी जाती हैं जैसे- विद्यालय
  • औपचारिक शिक्षा एक निश्चित लोगों के द्वारा दी जाती है जैसे- शिक्षक गण

अनौपचारिक शिक्षा क्या है?

अनौपचारिक शिक्षा एक मुक्त शिक्षा प्रणाली है। इस प्रकार के शिक्षा प्रणाली में शिक्षक, परीक्षा, पाठ्यक्रम, समय तालिका एवं कोई निश्चित स्थान इत्यादि का महत्व नहीं होता है। बच्चे कहीं भी स्वतंत्र रूप से शिक्षा को ग्रहण कर सकते हैं। इस प्रकार के शिक्षा अनौपचारिक शिक्षा कहलाता अनौपचारिक शिक्षा कहलाता है।

अनौपचारिक शिक्षा के उदाहरण एवं साधन

अनौपचारिक शिक्षा के साधन के अंतर्गत :- चिड़ियाघर, आस-पड़ोस, समाज तथा वातावरण, मित्र-मंडली, खेल, सामूहिक कार्यक्रम सम्मिलित होते हैं।

अनौपचारिक शिक्षा का विशेषता एवं महत्व

  • अनौपचारिक शिक्षा एक मुक्त शिक्षा प्रणाली होती है।
  • इस प्रकार के शिक्षा प्रणाली में किसी सिखाने वाले लोगों की जरूरत नहीं होती है बालक स्वयं अपने अनुभव से सीखता है।
  • अनौपचारिक शिक्षा में सीखने का कोई समय निश्चित नहीं होता है।
  • अनौपचारिक शिक्षा में शिक्षण के लिए कोई स्थान निर्धारित नहीं होता है।
  • इस प्रकार के शिक्षा में बालक किसी भी चीज से सीख सकता है अर्थात,  सिखाने वाला कोई भी हो सकता है।
  • अनौपचारिक शिक्षा देने से पहले शिक्षा प्राप्ति का कोई उद्देश्य नहीं होता है।

निरौपचारिक शिक्षा क्या है?

निरौपचारिक शिक्षा औपचारिक शिक्षा एवं अनौपचारिक शिक्षा के बीच की शिक्षा प्रणाली होती है। यह औपचारिक एवं अनौपचारिक शिक्षा दोनों से मिला-जुला होता है। निरौपचारिक शिक्षा में ना तो औपचारिक शिक्षा के समान विभिन्न प्रकार के बंधन होते हैं और ना ही अनौपचारिक शिक्षा की तरह पूरा खुलापन होता है।

निरौपचारिक शिक्षा में पाठ्यक्रम, शिक्षा का उद्देश्य, शिक्षण विधि, शिक्षण समय इत्यादि निश्चित होते हैं जो औपचारिक शिक्षा के गुण भी हैं। लेकिन निरौपचारिक शिक्षा में स्थान निर्धारित नहीं होता है। शिक्षा देने वाले व्यक्ति निर्धारित नहीं रहते हैं, जो अनौपचारिक शिक्षा के गुण को दर्शाता है।

निरौपचारिक शिक्षा का सर्वश्रेष्ठ उदाहरण है:-  दूरस्थ शिक्षा प्रणाली। दूरस्थ शिक्षा में समय पाठ्यक्रम शिक्षण विधि इत्यादि निर्धारित रहते हैं लेकिन बालक कहीं भी रह कर किसी भी साधन के उपयोग करके पढ़ाई को पूरा कर सकता है यह जरूरी नहीं है कि वहां उसी कॉलेज या स्कूल के शिक्षकों से पढ़ाई करेगा। वह अपने घर पर रहकर या फिर किसी अन्य जगह पर भी रहकर पढ़ाई कर सकता है। और साथ ही वह किसी भी चीज से पढ़ाई को पूरा कर सकता है जैसे पूर्व विद्यार्थी के नोट्स या फिर ऑनलाइन पढ़ाई भी कर सकता है।

तो आपने देखा कि निरौपचारिक शिक्षा में औपचारिक शिक्षा का भी गुण मिला साथी साथ अनौपचारिक शिक्षा का भी गुण देखने को मिलता है इसीलिए निरौपचारिक शिक्षा को इन दोनों शिक्षा के बीच की शिक्षा प्रणाली कहा गया है।

निरौपचारिक शिक्षा के गुण एवं विशेषताएं

  • निरौपचारिक शिक्षा का पाठ्यक्रम समय सारणी उद्देश्य इत्यादि निर्धारित होते हैं।
  • निरौपचारिक शिक्षा प्राप्त करने का स्थान किसी भी जगह हो सकता है।
  • इस प्रकार की शिक्षा प्रणाली में बालक किसी भी चीजों की सहायता से अपने शिक्षा को पूरा कर सकता है।
  • अतः हम कह सकते हैं कि निरौपचारिक शिक्षा प्रणाली औपचारिक शिक्षा प्रणाली एवं अनौपचारिक शिक्षा प्रणाली के बीच की शिक्षा प्रणाली हैं।

आज के इस लेख में आपने औपचारिक शिक्षा क्या है अनौपचारिक शिक्षा क्या है साथी साथ निरौपचारिक शिक्षा क्या है इन तीनों के बारे में अध्ययन किया।

इसे भी जानें…..

मैं उम्मीद करता हूं कि यह लेख आपको पसंद आई होगी तथा यह आपके लिए उपयोगी भी होगा। इसी तरह के अन्य लेख को पढ़ने के लिए पढ़ते रहिए…..RKRSTUDY.NET

CTET Preparation Group भाषा का अर्थ एवं भाषा की परिभाषाCLICK HERE