बाल अपराध क्या है? बाल अपराध का अर्थ,परिभाषा एवं कारण

आज हम लोग इस लेख में एक सामाजिक समस्याओं के बारे में अध्ययन करेंगे वह समस्या है :- बाल अपराध। इस लेख में हम लोग बाल अपराध से जुड़े हैं हर एक पहलुओं विस्तृत रूप से अध्ययन करेंगे। बाल अपराध क्या है?

बाल अपराध क्या है? बाल अपराध का अर्थ,परिभाषा एवं कारण
rkrstudy.net

हम लोग जानेंगे कि बाल अपराध किसे कहते हैं? बाल अपराध की परिभाषा क्या है तथा बाल अपराध के कारण क्या है। वह कौन से कारण या परिस्थितियां आ जाती है जिससे बालक अपराध करता है इन सभी के बारे में हम लोग विस्तृत रूप से अध्ययन करेंगे।

बाल अपराध क्या है?

कोई भी व्यक्ति जन्म से अपराधी नहीं होता, परिस्थितियां उसे ऐसा करने पर विवश कर देती है।

बाल अपराध का अर्थ

बाल अपराध शब्दों से ही पता चल रहा है बाल अपराध यानी बालक के द्वारा किया गया अपराध।

बाल अपराध की परिभाषा

बालकों के द्वारा किया जाने वाला वैसा कार्य जो सामाजिक स्तर पर गैर कानूनी कार्य होते हैं उसे बाल अपराध कहते हैं।

धूम्रपान करना, लड़ाई झगड़ा करना, चोरी करना, माता-पिता की बात नहीं मानना, अभद्र भाषा का प्रयोग करना, झूठ बोलना, बुरी संगति में रहना, विद्यालय के संसाधनों को क्षति पहुंचाना, विद्यालय की दीवारों पर अभद्र शब्दों को लिखना, विद्यालय से भागकर कहीं घूमने या सिनेमा देखने जाना इत्यादि सभी कार्य बाल अपराध के उदाहरण हैं।

बाल अपराध क्या है?

बाल अपराध की परिभाषा

जेम्स के अनुसार :- “बाल अपराधी का तात्पर्य उस बच्चे से है जो आदत के रूप मे अपनी निराशाओं को समाज विरोधी कार्यों अथवा हिंसा के रूप मे प्रदर्शित करता है”।

बेकर के अनुसार :- “बाल अपराध का तात्पर्य ऐसे हिंसात्मक व्यवहार से है जिसमे एक बालक द्वारा राज्य व नगर के कानूनों का उल्लंघन होता है”।

फ्राईड लैडन :- “जब किसी बालक के व्यक्तित्व मे ऐसी अभिवृत्ति विकसित होती है, जो उसे सामाजिक नियमों व कानूनों को तोड़ने की प्रेरणा देती है तब उसे बाल अपराधी कहेंगे”।

गिलिन व गिलिन के अनुसार :- “समाजशास्त्रीय दृष्टिकोण से बाल-अपराधी वह व्यक्ति है जिसके व्यवहार को समाज अपने लिए हानिकारक समझता है और इसलिए यह उसके द्वारा निषिद्ध होता है।”

बाल अपराध के कारण

बाल अपराध के अनेकों कारण हो सकते हैं उनमें से कुछ प्रमुख कारण निम्नलिखित है

  • परिवारिक कारण
  • सामाजिक माहौल
  • आर्थिक कारण
  • चलचित्र
  • कुसंगति
  • वैयक्तिक कारण इत्यादि।

Read more:-

CTET Preparation Group CLICK HERE