बाल विकास की अवधारणा एवं विकास का अधिगम से संबंध।। CDP NOTES IN HINDI

हमारे "CTET PREPRATION" Whatsapp ग्रुप को अभी Join करें......CLICK HERE

Concept of Development and its relationship with learning:- आज के इस लेख में बाल विकास की अवधारणा एवं विकास का अधिगम से संबंध को जानेंगे। हमलोग पढ़ेंगे की बाल विकास के अर्थ, अवधारणा एवं विकास का अधिगम से संबंध क्या है? तो चलिए हमलोग बाल विकास के अर्थ, परिभाषा, अवधारणा, अभिलक्षण, आयाम एवं विकास का अधिगम से क्या संबंध है इन सभी के बारे में विस्तृत रूप से अध्ययन करते हैं।

बाल विकास की अवधारणा एवं विकास का अधिगम से संबंध

बाल विकास के अर्थ :-

बाल विकास का अर्थ बालकों के होने वाले विकास के क्रमिक अध्ययन से है। बाल विकास के अंतर्गत हम लोग एक बालक वृद्धि और विकास के सभी पहलुओं के एक क्रम से अध्ययन करते हैं। बाल विकास का अर्थ केवल बालक का बड़ा होना नहीं है,अपितु यह एक बहुमुखी प्रक्रिया है और इसमें मात्र शरीर के अंगों का विकास ही नहीं परंतु सामाजिक, सांवेगिक अवस्थाओं में होने वाले परिवर्तनों को भी शामिल किया जाता है। बाल विकास के अंतर्गत शक्तियों और क्षमताओं के विकास को भी गिना जाता है।

बाल विकास एक अमूर्त ही नहीं अपितु इसे देखा जा सकता है और कुछ सीमा तक किसका मापन भी किया जा सकता है यह विकास व्यक्ति के व्यवहार में परिलक्षित होता है।

बाल विकास की परिभाषा

बालको का मानसिक व शारीरिक विकास जिस प्रक्रिया के द्वारा संपन्न होता है उसे बाल विकास कहते हैं।

बाल विकास के संदर्भ में मनोवैज्ञानिकों का मत –

स्कीनर के अनुसार ⤏ विकास एक क्रमिक एवं मंद गति से चलने वाली प्रक्रिया है।

हरलॉक के अनुसार ⤏ बाल मनोविज्ञान का नाम बाल विकास इसलिए रखा गया क्योंकि विकास के अंतर्गत बालक के विकास के समस्त पहलुओं पर ध्यान केंद्रित किया जाता है, किसी एक पक्ष पर नहीं।

क्रो और क्रो के अनुसार ⤏ बाल मनोविज्ञान व विज्ञान है जिसमें जन्म से परिपक्व अवस्था तक विकसित हो रहे मानव का अध्ययन किया जाता है।

ड्रेवर के अनुसार ⤏ विकास प्राणी में प्रगतिशील परिवर्तन है जोकि किसी निश्चित लक्ष्य की ओर निरंतर निर्देशित रहता है।

बाल विकास की अवधारणा

बाल विकास एक बहुमुखी प्रक्रिया है जिसमें बालक के मानसिक व शारीरिक विकास होता है। बाल विकास के अंतर्गत बालकों में शारीरिक, मानसिक, सामाजिक, संज्ञानात्मक, भाषागत तथा धार्मिक इत्यादि क्षेत्रों में विकास होता है।

बाल विकास का संबंध गुणात्मक एवं परिणात्मक दोनों विकास से है। गुणात्मक विकास के अंतर्गत कार्यकुशलता, ज्ञान, तर्क एवं विचारधारा इत्यादि आते हैं।
परिनात्मक विकास के अंतर्गत लंबाई में वृद्धि, भार में वृद्धि इत्यादि आते हैं।

उपरोक्त लेख में हम लोगों ने जाना कि बाल विकास के अर्थ, अवधारणा एवं विकास का अधिगम से संबंध क्या है? मैं उम्मीद करता हूं कि यह लेखआपको पसंद आई होगी तथा यह आपके लिए उपयोगी भी होगा। इसी तरह के अन्य लेख को पढ़ने के लिए पढ़ते रहिए…..RKRSTUDY.NET

CTET Preparation Group पारिस्थितिकी तंत्र (Ecosystem) क्या हैCLICK HERE
CTET PREPRATION WHATSAPP GROUP Join Now