भौतिक परिवर्तन एवं रासायनिक परिवर्तन में अंतर

आज हम लोग इस लेख में जानेंगे कि भौतिक परिवर्तन एवं रासायनिक परिवर्तन में अंतर कौन-कौन से हैं, साथी साथ  जानेंगे कि भौतिक परिवर्तन के गुण कौन से हैं तथा रासायनिक परिवर्तन के गुण कौन से हैं। तो चलिए हम लोग भौतिक परिवर्तन एवं रासायनिक परिवर्तन में अंतर को जानने से पहले हम लोग यह जानते हैं कि भौतिक परिवर्तन एवं रासायनिक परिवर्तन कहते किसको हैं।

भौतिक परिवर्तन किसे कहते हैं?

पदार्थों का ऐसा परिवर्तन जिसमें पदार्थ के गुण कुछ समय के लिए बदल जाते हैं परंतु उनकी बनावट और भार में कोई परिवर्तन नहीं होता है उसे भौतिक परिवर्तन कहते हैं।

दूसरे शब्दों में, भौतिक परिवर्तन की परिभाषा 

पदार्थ का वैसा परिवर्तन जिसमें परिवर्तन के बाद पुनः पहले वाले अवस्था में पदार्थों का परिवर्तन किया जा सकता हो इस प्रकार का परिवर्तन भौतिक परिवर्तन कहलाता है।

उदाहरण : जल की अवस्था में परिवर्तन, लोहे का चुंबकीय होना, विद्युत बल्ब का ताप दीप्ति होना इत्यादि।

रासायनिक परिवर्तन की परिभाषा

पदार्थों का पैसा परिवर्तन जीने में नए पदार्थ बन जाते हैं, पदार्थों के गुण अस्थाई रूप से बदलते हैं उसे रासायनिक परिवर्तन कहते हैं। जैसे :- दूध से दही बनाना, जल का विद्युत अपघटन, मैग्नीशियम के तार का जलना है इत्यादि।

भौतिक परिवर्तन एवं रासायनिक परिवर्तन में अंतर

रासायनिक परिवर्तन के गुण

  • रसायनिक परिवर्तन के फसल को बने नए पदार्थ के गुण मूल पदार्थ के गुणों से भिन्न होते हैं।
  • इस प्रकार के परिवर्तन में पदार्थ का मूल गुण परिवर्तित हो जाता है।
  • रासायनिक परिवर्तन स्थाई होते हैं। प्रक्रिया का कारण हटने के बाद विवाह उत्क्रमित नहीं होता है।
  • रासायनिक परिवर्तन में उस्मा निकलती है तथा अवशोषित होती है।
  • इस प्रकार के परिवर्तन के फल स्वरुप तत्व एवं यौगिकों के द्वारा नए पदार्थ बनते हैं उसका गुण प्रारंभिक अवस्था से भिन्न होता है।
  • रसायनिक परिवर्तन के बाद पदार्थ को उत्पाद कहते हैं।
  • इस प्रकार के परिवर्तन के दौरान भाग लेने वाले पदार्थ को अभिकारक या प्रतिकारक का कहते हैं।
  • रासायनिक परिवर्तन को रासायनिक अभिक्रिया भी कहा जा सकता है।
  • रासायनिक अभिक्रिया वास्तविक रूप में जब घटित होती है,तो इन्हें एक सांकेतिक रूप में निरूपित किया जाता है इसे रासायनिक समीकरण कहा जाता है।

भौतिक परिवर्तन एवं रासायनिक परिवर्तन में अंतर

भौतिक परिवर्तन

रासायनिक परिवर्तन

भौतिक परिवर्तन में पदार्थ के केवल भौतिक गुण रंग, अवस्था आदि बदलते हैं। रासायनिक परिवर्तन में पदार्थ का गुण रंग अवस्था बिल्कुल अलग हो जाता है।
इस प्रकार के परिवर्तन में नए पदार्थ का निर्माण नहीं होता है। इस प्रकार के परिवर्तन में नए पदार्थ का निर्माण होता है।
भौतिक परिवर्तन में पदार्थ के भार में अंतर नहीं आता है। रासायनिक परिवर्तन के फल स्वरुप पदार्थ के भार में अंतर आ जाता है।
भौतिक परिवर्तन अस्थायी है। रासायनिक परिवर्तन स्थायी है।
इसमें परिवर्तन का कारण हटने पर पदार्थों पर व्यवस्था में आ जाता है। इसमें परिवर्तन के कारण हटने पर भी पदार्थ पूर्व अवस्था में नहीं आता है।

 

Read more:-

CTET Whatsapp Group : – Join Now

इसे भी पढ़ें :-