गणित शिक्षण की विधि

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि किसी भी विषय को पढ़ाने के लिए शिक्षक को भिन्न भिन्न प्रकार की तकनीकों का उपयोग करना पड़ता है जिससे शिक्षार्थी उस विषय को आसानी से समझ सकते हैं। ठीक उसी प्रकार से गणित पढ़ाने के लिए भी शिक्षकों को कुछ महत्वपूर्ण तकनीकों का सहारा लेना पड़ता है। तो चलिए जानते हैं कि गणित शिक्षण की विधि कौन-कौन से हैं तथा गणित पढ़ाने के तरीके कौन-कौन से हैं?

गणित शिक्षण की विधि

गणित पढ़ाने के विभिन्न तकनीकों होते हैं उनमें से कुछ प्रमुख तकनीकी निम्नलिखित है-

अभ्यास कार्य

  • अभ्यास कार्य को गणित के लिए एक उपयोगी तकनीक माना गया है। स्वाध्याय के लिए अभ्यास कार्य एक बेहतर विकल्प है।
  • अभ्यास कार्य के दौरान छात्रों को विभिन्न चुनौतियों का सामना करना पड़ता है जिससे वे नए नए चीजों एवं कौशलों को सीखते हैं।
  • अभ्यास कार्य का एक नुकसान भी है कि यदि अभ्यास कार्य की रूपरेखा अच्छे ढंग से तैयार नहीं की जाती है तो यह अनुपयोगी साबित हो सकता है।

गृह कार्य

  • गृह कार्य अर्थात- घर का कार्य। यानी छात्रों को कक्षा कक्ष में गणित की जानकारी देने के अलावा उन्हें घर के लिए भी कार्य को देना गिरी कार्य के अंतर्गत आता है।
  • गृह कार्य से सही समय पर पाठ्यक्रम को खत्म करने में शिक्षकों को सहायता मिलती है। साथ में ही अभिभावक को भी बच्चों के शैक्षणिक विकास की जानकारी मिलती रहती है।

मौखिक कार्य

  • कक्षा कक्ष में छात्र एवं शिक्षक के बीच होने वाले वार्तालाप मौखिक कार्य के अंतर्गत आते हैं।
  • मौखिक कार्य से छात्रों में सोचने समझने तथा बोलने की क्षमता का विकास होता है।
  • मौखिक कार्य से अधिगम तेजी से होता है अर्थात मौखिक कार्य से पढ़ाने पर समय की बचत होती है।

लेखन कार्य

  • लेखन कार्य गणित की शुद्धता एवं मानसिक वृद्धि के लिए महत्वपूर्ण है।
  • लेखन कार्य के द्वारा बालकों में लेखन क्षमता तथा अच्छी लिखावट का विकास होता है।
  • इस कार्य के द्वारा आवश्यक वस्तु के रिकॉर्ड को लिखकर काफी दिनों तक सुरक्षित रखा जा सकता है।
  • लेखन कार्य एक लंबी प्रक्रिया है जो अधिक समय लेता है।

समूह कार्य

  • समूह में किसी कार्य को करना या सीखना समूह कार्य कहलाता है।
  • इसमें समूह में उपस्थित सभी सदस्यों का अनुभव एवं ज्ञानों का आदान-प्रदान होते रहता है जिससे अधिगम की प्रक्रिया सरल एवं सुगम हो जाती है।
  • समूह में नई चीजों को सीखने का अवसर मिलता है, इसीलिए समूह करें गणित अधिगम के लिए एक उत्तम तकनीक है।

आज की इस लेख में हम लोगों ने जाना कि गणित शिक्षण की विधि कौन-कौन से होते हैं तथा गणित पढ़ाने के तरीके कौन-कौन से होते हैं।

Watch This topic on Youtube

 

 

CTET Preparation Group भाषा का अर्थ एवं भाषा की परिभाषाCLICK HERE

 

CTET Official Website Click Here