आज के इस लेख में आप सभी लोग ज्ञान के बारे में अध्ययन करेंगे। लेख के माध्यम से आप जानेंगे कि ज्ञान का अर्थ क्या है?

ज्ञान किसे कहते हैं?

जान हमारे कार्यों का आधार है यह आत्मा का गुण है मनुष्य सही या गलत ज्ञान के आधार पर ही कार्य करता है अर्थात, किसी को जानना उससे परिचित होना उससे ज्ञात होना इत्यादि ज्ञान के अंतर्गत आते हैं।

ज्ञान की परिभाषा

प्लेटो के अनुसार – विचारों की दलीय व्यवस्था और आत्मा परमात्मा के स्वरूप को जानना ही सच्चा ज्ञान है।

सुकरात के अनुसार – ज्ञान सर्वोच्च सद्गुण है।

विलियम जेम्स के अनुसार – ज्ञान व्यवहारिक प्राप्ति और सफलता का दूसरा नाम है।

प्रोफ़ेसर रसाल के अनुसार – ज्ञान वह है जो मनुष्य के मन को प्रकाशित करता है।

ज्ञान का अर्थ क्या है? ज्ञान का शाब्दिक अर्थ क्या है? Gyan ka arth batayen

ज्ञान का अर्थ/ ज्ञान का शाब्दिक अर्थ

ज्ञान शब्द संस्कृत की ज्ञा धातु से बना है जिसका अर्थ जानना होता है।

अंग्रेजी भाषा में ज्ञान को Knowledge कहते हैं। Knowledge शब्द भी To Know से संबंध रखता है जिसका अर्थ भी जानने से है।

इस प्रकार से हम कह सकते हैं कि ज्ञान शब्द का संबंध जानकारी के साथ है।

शब्दकोश में ज्ञान के अनेक अर्थ बताए गए हैं :-

सूचना :- किसी भी प्रकार की जानकारी अथवा विषय से संबंधित जानकारी ज्ञान है।

अधिगम :- स्वयं के अनुभव तथा प्रशिक्षण के द्वारा जो अधिगम होता है वह ज्ञान है।

निश्चित विश्वास :- अपने अनुभव एवं चिंतन के आधार पर व्यक्ति के जो निश्चित विश्वास बन जाते हैं वह ज्ञान है।

ज्ञात :- जो ज्ञात अर्थ अर्थ जाना हुआ है, वह ज्ञान है।

प्रकाशित होना:- जिस का बोध हो गया अथवा जो व्यक्ति के मन में प्रकाशित हो गया, वह ज्ञान है या जो मन को प्रकाशित कर दे वह ज्ञान हैं।

आज के इस लेख में आपने ज्ञान के अर्थ के बारे में अध्ययन किया।

इसे भी जानें…..

मैं उम्मीद करता हूं कि यह लेख आपको पसंद आई होगी तथा यह आपके लिए उपयोगी भी होगा। इसी तरह के अन्य लेख को पढ़ने के लिए पढ़ते रहिए…..RKRSTUDY.NET

CTET Preparation Group भाषा का अर्थ एवं भाषा की परिभाषाCLICK HERE