Welcome to rkrstudy.net आज का हमारा टॉपिक है {किशोरावस्था} किशोरावस्था बाल विकास का एक महत्वपूर्ण अवस्था है। आप इस लेख में अध्ययन करेंगे कि किशोरावस्था किसे कहते हैं? किशोरावस्था की परिभाषा क्या है? किशोरावस्था की विशेषताएं, लक्षण एवं महत्व क्या है? तो चलिए हम लोग जानते हैं कि किशोरावस्था क्या है?

Today’s topic is {Adolescence} Adolescence is an important stage of child development. In this article you will study what is adolescence? What is the definition of adolescence? What are the characteristics, characteristics and importance of adolescence? So let us know what adolescence is?

किशोरावस्था क्या है? (What is adolescence?)

किशोरावस्था बाल विकास की एक अवस्था है जो बाल्यावस्था के बाद तथा प्रौढ़ावस्था से पहले आती है। किशोरावस्था का काल 12 वर्ष से 18 वर्ष तक के बीच का काल होता है। किशोरावस्था को “दबाव और तूफानों का अवस्था” कहा जाता है।

Adolescence is a stage of child development that occurs after childhood and before adulthood. Adolescence is the period between the ages of 12 and 18. Adolescence is known as “the stage of pressures and storms”.

किशोरावस्था के गुण, लक्षण एवं विशेषताएं

  • किशोराकाल में मनुष्य बाल्यावस्था से परिपक्वता की ओर अग्रसर होता है।
  • During adolescence man progresses from childhood to maturity.

किशोरावस्था क्या है?

  • इस अवस्था में बालक बालिकाओं में तेजी के साथ शारीरिक एवं मानसिक परिवर्तन होता है।
  • In this stage, physical and mental changes take place rapidly in boys and girls.

किशोरावस्था में होने वाले शारीरिक परिवर्तन (Physical changes in adolescence):-

  • इस अवस्था के अंत तक बालक के शारीरिक विकास लगभग पूर्ण हो जाता है।
  • By the end of this stage, the physical development of the child is almost complete.
  • इस अवस्था में बालक बालिकाओं के लंबाई एवं भाड़ में तेजी से वृद्धि होता है।
  • In this stage, there is a rapid increase in the height and weight of boys and girls.
  • इस अवस्था में किशोरों के बाहर में 1 वर्ष में लगभग 10 से 15 पाउंड तक वृद्धि होता है।
  • At this stage, the outside of the juveniles increases by about 10 to 15 pounds in 1 year.
  • किशोरावस्था में बालकों के आवाज में कर्कश तथा लड़कियों की आवाज कोमल एवं सुरीली हो जाता है
  • In adolescence, the voice of boys becomes hoarse and the voice of girls becomes soft and melodious.
  • इस अवस्था में हड्डियों का लचीलापन समाप्त होने लगता है और उसमें कठोरता एवं परिपक्वता आ जाता है
  • In this stage, the flexibility of the bones starts losing and it becomes hard and mature.
  • किशोरावस्था में बालकों के विभिन्न अंगों पर बाल आने लगता है। जैसे:- बगल, गुप्तांग, छाती, दाढ़ी इत्यादि पर।
  • During adolescence, hair starts growing on different parts of the child. For example:- On armpits, genitals, chest, beard etc.
  • इस अवस्था में लड़कियों के उरोज भरने लगता है तथा मासिक स्राव प्रारंभ हो जाता है।
  • At this stage, the girls’ bowels start filling up and menstruation starts.
  • किशोरावस्था में मस्तिष्क, हृदय, स्वसन तंत्र, पाचन तंत्र तथा स्नायु संस्थान का पूर्ण विकास हो जाता है।
  • In adolescence, the brain, heart, respiratory system, digestive system and nervous system are fully developed.

किशोरावस्था में होने वाले मानसिक परिवर्तन (Mental changes in adolescence) :-

इस अवस्था में बालक तथा बालिकाओं के शारीरिक विकास के साथ-साथ मानसिक विकास में भी काफी परिवर्तन देखने को मिलता है। इस परिवर्तन के फल स्वरुप निम्नलिखित प्रकार के बदलाव दिखाई पड़ते हैं।

In this stage, along with the physical development of boys and girls, a lot of changes are seen in the mental development as well. As a result of this change the following types of changes are seen.

  • बालक एवं बालिकाओं में किसी विषय वस्तु के प्रति ध्यान केंद्रित करने की क्षमता का विकास होना। (To develop the ability to concentrate on a subject matter in boys and girls)
  • स्मरण शक्ति का विकास होना। (Memory development)
  • काल्पनिक विकास। (imaginary development)
  • तर्क एवं विचार करने की शक्ति के विकास।(Developing the power of reasoning and thinking)
  • रुचि एवं अभिरुचि यों का विकास। (Development of interests and aptitudes)
  • प्रदर्शन की भावना का विकास।(Developing a sense of performance)
  • चारित्रिक अनुकरण की प्रवृत्ति का विकास।(Development of tendency to imitate character)
  • विपरीत लिंग के प्रति आकर्षण होना। (Being attracted to the opposite sex)

आपने इस लेख से क्या सीखा?

इस लेख में आपने पढ़ा कि किशोरावस्था किसे कहते हैं? किशोरावस्था की परिभाषा क्या है? किशोरावस्था की विशेषताएं लक्षण एवं महत्व क्या है?

मैं उम्मीद करता हूं कि यह लेख आपको पसंद आई होगी तथा यह आपके लिए उपयोगी भी होगा। इसी तरह के अन्य लेख को पढ़ने के लिए पढ़ते रहिए…..RKRSTUDY.NET

I hope you liked this article and it will be useful for you too. Keep reading to read more similar articles…..RKRSTUDY.NET

CTET Preparation Group CLICK HERE