कृषि (Agriculture) क्या है? कृषि के प्रकार कौन-कौन से हैं? CTET SST NOTES IN HINDI

CTET एवं TET EXAMS के Social Science के Syllabus में “कृषि (Agriculture)” नामक एक Topic है, जिससे Teacher Eligibility Test (TET) में लगभग प्रत्येक वर्ष प्रश्न पूछे जाते हैं। कृषि (Agriculture) क्या है? कृषि के प्रकार कौन-कौन से हैं? इन सब के बारे में इस लेख में विस्तृत रूप से दिया गया है। चलिए जानते हैं कि कृषि किसे कहते हैं?

कृषि (Agriculture) क्या है? (What is Agriculture)

जैसा कि हम लोग जानते हैं कि सभी मनुष्य को जीविकोपार्जन के लिए कुछ ना कुछ काम करना पड़ता है। उसी में से कुछ लोग फसलों के उत्पादन तथा पशुपालन जैसे कार्य भी करते हैं। फसलों के उत्पादन एवं पशुपालन से जुड़े जितनी भी क्रियाएं होती है उन सभी को कृषि के अंतर्गत रखा जाता है।

यदि आप  CTET या  TET EXAMS की तैयारी कर रहें हैं तो RKRSTUDY.NET पर TET का बेहतरीन NOTES उपलब्ध है NOTES का Link नीचे दिया गया है :-

कृषि किसे कहते हैं?

फसल के उत्पादन तथा पशुपालन से संबंधित वह किया जिससे मनुष्य अपना जीवन व्यतीत करते हैं उसे कृषि कहते हैं।

कृषि में क्या होता है?

कृषि कार्य में बीज की बुआई, उर्वरक, मजदूरी, खेतों की जुताई, सिंचाई, निराई तथा कटाई जैसी प्रक्रिया शामिल है।
गौपालन, मुर्गी पालन, बकरी पालन, मधुमक्खी पालन इत्यादि भी कृषि के अंतर्गत ही आते हैं।

कृषि के अनेकों रूप होते हैं उनमें से कुछ प्रमुख रूप निम्नलिखित है :-

सेरीकल्चर :- रेशम से जुड़ी कृषि
पीसी कल्चर :- मछली की व्यापारिक कृषि
विटीकल्चर :- अंगूर की कृषि
हॉर्टिकल्चर :- सब्जियों, फलों तथा फूलों की कृषि

कृषि के प्रकार

कृषि कई प्रकार से की जाती है। किसी जगह की भौगोलिक दशाओं, उत्पाद की मांग, श्रम एवं प्रौद्योगिकी की आधार पर कृषि को कई भागों में विभाजित किया गया है जो निम्नलिखित हैं:-

  1. निर्वाह कृषि
  2. स्थानांतरित कृषि
  3. मिश्रित कृषि
  4. वाणिज्यिक कृषि
  5. जैविक कृषि
  6. बागानी कृषि

निर्वाह कृषि क्या है?

निर्वाह कृषि सामान्यतः छोटे भू-खंड पर की जाती है। इस प्रकार के कृषि दो प्रकार से की जाती है- प्राचीन निर्वाह कृषि तथा गहन निर्वाह कृषि। प्राचीन निर्वाह कृषि परंपरागत कृषि औजार के सहायता से की जाती है तथा गहन निर्वाह कृषि श्रमिकों की सहायता से की जाती है।

स्थानांतरित कृषि क्या है?

इस प्रकार के खेती के लिए जमीन के कुछ हिस्सों को साफ कर दिया जाता है तथा उस पर खेती किया जाता है। जब जमीन की उर्वरा शक्ति कम हो जाती है तो उस जगह को छोड़कर अन्य जगह पर खेती की जाती है।

➠ स्थानांतरित कृषि को विश्व के विभिन्न हिस्सों में विभिन्न नामों से जाना जाता है। जैसे :- झूमिंग खेती – उत्तर-पूर्वी भारत। मिल्पा खेती- मेक्सिको में, रोका- ब्राजील में तथा लडांग- इंडोनेशिया में।

भारत में प्रमुख स्थानांतरित कृषि के नाम

झूम खेती – उत्तर-पूर्वी भारत
वेवार एवं उहियार खेती -बुंदेलखंड
दीपा – बस्तर
जारा एवं एरका – दक्षिण भारत
बत्रा – दक्षिण-पूर्वी राजस्थान
पोड् – आंध्र प्रदेश
कमान एवं विंगा – उड़ीसा।

मिश्रित कृषि क्या है?

मिश्रित कृषि मुख्य रूप से खाद्य फसलों के उत्पादन तथा जानवरों के लिए चारा के लिए किया जाता है।

➠ इस प्रकार के कृषि यूरोप, पूर्वी अमेरिका, अर्जेंटीना, दक्षिण पूर्व ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका तथा उत्तरी भारत में की जाती है।

वाणिज्यिक कृषि क्या है?

इस प्रकार की कृषि मुख्य रूप से उत्पाद को बाजार में बेचने के लिए किया जाता है। वाणिज्यिक कृषि में अधिकांश कार्य मशीन के द्वारा किया जाता है।

➠ इस प्रकार के कृषि में अधिक पूंजी तथा भूमि की आवश्यकता होती है।

बागानी कृषि क्या है?

यह एक प्रकार की वाणिज्यिक कृषि है। इसमें अधिक पूंजी तथा भूमि की आवश्यकता होती है। गन्ना, चाय, कॉफी, काजू एवं रबड़ इत्यादि की खेती बागानी कृषि के द्वारा ही की जाती है।

जैविक कृषि क्या है?

जैविक कृषि में फसलों के उत्पादन में पूर्वजों को तथा कीटनाशकों का इस्तेमाल नहीं किया जाता है। क्योंकि रासायनिक उर्वरक तथा कीटनाशक मृदा तथा फसल दोनों के लिए हानिकारक होता है।

CTET Preparation Group CLICK HERE