पदार्थ किसे कहते हैं? पदार्थ के परिभाषा, गुण एवं अवस्था

हमारे "CTET PREPRATION" Whatsapp ग्रुप को अभी Join करें......CLICK HERE

आज हम लोग एक बहुत ही रोचक विषय पर अध्ययन करेंगे। वह रोचक विषय है “पदार्थ”जी हां, आज हम लोग पदार्थ के बारे में संपूर्ण अध्ययन करेंगे। हम लोग इस लेख के माध्यम से पढ़ेंगे की पदार्थ किसे कहते हैं, पदार्थ के गुण क्या होते हैं, पदार्थ की परिभाषा क्या है साथ ही साथ हम लोग यह भी पढ़ेंगे की पदार्थ के अवस्था कौन-कौन से हैं। तो चलिए सबसे पहले हम लोग जानते हैं कि पदार्थ क्या है?

पदार्थ किसे कहते हैं?

हमारा ब्रह्मांड पदार्थ और ऊर्जा से मिलकर बना है। हम द्रव्य वस्तुओं जैसे:- घर, वृक्ष, जल, जंतु इत्यादि से पूरी तरह से गए हुए हैं। इन सभी वस्तुओं की उपस्थिति का हमारी पांच में से एक या एक से अधिक इंद्रियों के द्वारा अनुभव किया जाता है। यह इंद्रियां है :- दृष्टि, श्रवण, स्वाद, गंध और स्पर्श। अर्थात हम कर सकते हैं कि वह सारे वस्तुएं जो हमारे इंद्रियों के द्वारा महसूस किया जाता है उसे पदार्थ कहते हैं।

पदार्थ की परिभाषा

वह वस्तु जो स्थान घेरती हो, जिसमें द्रव्यमान हो तथा जिसका एहसास हमारी इंद्रियों के द्वारा किया जा सकता है, पदार्थ कहलाता है।

दुनिया में जाने कितने और क्या-क्या चीजें भरी पड़ी है। जंगल पहाड़, नदी तालाब, मिट्टी घास, पेड़ पौधे, जीव जंतु, स्याही दवात न जाने कितने और भी चीजें हैं। हर चीज के लिए कुछ ना कुछ जगह की जरूरत होती है, कहने का मतलब यह है की चीजों का आयतन होता है। हरि की चीजों में कुछ ना कुछ द्रव्यमान होते हैं यानी चीजों का भार होता है। इन सभी चीजों को पदार्थ कहते हैं।

पदार्थ एक तरह का नहीं होता है, कुछ ऐसे पदार्थ होते हैं जिन्हें पहचानना काफी मुश्किल हो जाता है।कुछ ऐसे पदार्थ हैं जिसे हम लोग आसानी से देख सकते हैं लेकिन कुछ ऐसे भी पदार्थ जिसे हम लोग देख नहीं सकते हैं सिर्फ महसूस कर सकते हैं। जैसे :- हवा।

पदार्थ बाहर से भले ही अलग-अलग रूप रंग आकार प्रकार में दिखते होंगे लेकिन सभी पदार्थों के अंदर यह तीन बातें देखने को मिलती है।

वे तीन बातें हैं :-

  1. हर एक पदार्थ कुछ ना कुछ जगह लिए रहता है, यानी पदार्थ में आयतन होता है।
  2. हर एक पदार्थ का कुछ ना कुछ वजन होता है। यानी पदार्थ में द्रव्यमान होता है।
  3. प्रत्येक पदार्थ की गति होती है।

पदार्थ किसे कहते हैं?

पदार्थ का वर्गीकरण

पदार्थों को मुख्य रूप से तीन भागों में बांटा गया है:-

  1. ठोस अवस्था
  2. गैसीय अवस्था
  3. द्रव अवस्था

पदार्थ के तीन रूपों का हम जिक्र कर चुके हैं – ठोस, तरल और गैस।इसके अलावा भी एक और प्रकार से पदार्थों को बांटा जा सकता है – मौलिक और यौगिक पदार्थ के रूप में।

पदार्थ किसे कहते हैं?

मौलिक पदार्थ क्या है?

वैसे पदार्थ जिसका कोई कांड नहीं किया जा सके यानी उस पदार्थ का निर्माण स्वयं से हुआ हो उसमें किसी तरह का अन्य पदार्थ का मिलावट नहीं हो उसे ‌मौलिक पदार्थ कहते हैं। जैसे:- हाइड्रोजन, हिलियम, लिथियम इत्यादि।

सभी तत्व मौलिक पदार्थ के उदाहरण है।

यौगिक पदार्थ क्या है?

यौगिक पदार्थ के अंतर्गत उन पदार्थों को रखा गया है जिसका निर्माण दो या दो से अधिक पदार्थों के मिलने के फल स्वरुप हुआ हो। उदाहरण के रूप में हम लोग जल को लेते हैं।

जल एक यौगिक पदार्थ है क्योंकि यह दो प्रकार के पदार्थ से मिलकर बना है वह पदार्थ है हाइड्रोजन और ऑक्सीजन।

हेनरी कैवेंडिस नामक वैज्ञानिक ने साबित किया था कि पानी में दो पदार्थों की मिलावट है।

Read more:-

CTET Whatsapp Group : – Join Now

इसे भी पढ़ें :-

CTET PREPRATION WHATSAPP GROUP Join Now