CTET EVS PEDAGOGY NOTES:- इस लेख में हमलोग पर्यावरण अध्ययन के बारे में अध्ययन करेंगे। हमलोग जानेंगे कि पर्यावरण अध्ययन क्या है? पर्यावरण अध्ययन के क्षेत्र, संकल्पना एवं पर्यावरण अध्ययन के महत्व एवं उद्देश्य क्या है?

In this article we will study about environmental studies. Let us know what is environmental studies? What is the scope, concept and importance and purpose of environmental studies?

विषय वस्तु {Subject}
पर्यावरण अध्ययन किसे कहते हैं? (What is Environmental Studies?)
पर्यावरण अध्ययन का अर्थ क्या है? (What is the meaning of environmental studies?)
पर्यावरण अध्ययन के क्षेत्र कौन-कौन से हैं? (What are the areas of environmental studies?)
पर्यावरण अध्ययन के महत्व क्या है? (What is the importance of environmental studies?)
पर्यावरण अध्ययन के उद्देश्य क्या है? (What is the purpose of environmental studies?)

 

पर्यावरण अध्ययन का अर्थ {Meaning of Environmental Studies}

कक्षा 3 से 5 तक की N.C.E.R.T की हिंदी में पर्यावरण अध्ययन की पुस्तकों का शीर्षक “आस-पास” है और अंग्रेजी में “Looking around” है।

Environmental Studies Books of N.C.E.R.T for Classes 3 to 5 in Hindi are titled “Aas-Paas” and “Looking around” in English.

पर्यावरण अध्ययन का अंग्रेजी में संक्षिप्त रूप EVS है जिसका विस्तृत रूप एनवायरमेंटल स्टडीज (Environmental studies) है।

The abbreviation for Environmental Studies in English is EVS, which is an acronym for Environmental Studies.

यदि आप  CTET या  TET EXAMS की तैयारी कर रहें हैं तो RKRSTUDY.NET पर TET का बेहतरीन NOTES उपलब्ध है NOTES का Link नीचे दिया गया है :-

पर्यावरण अध्ययन की परिभाषा (Definition of Environmental Studies)

हमारे चारों तरफ की वस्तुएं जिनसे हम घिरे हुए होते हैं, जो हमारे दैनिक जीवन को किसी न किसी रूप से प्रभावित करते हैं, उन्हें पर्यावरण कहते हैं तथा उस पर्यावरण के बारे में विस्तृत अध्ययन करना ही पर्यावरण अध्ययन  कहलाता है।

The things around us that we are surrounded by, which affect our daily life in some way or the other, they are called environment and doing detailed study about that environment is called environmental study.

पर्यावरण अध्ययन का महत्व (Importance of environmental studies)

हमारे पर्यावरण में सभी चीजें उपस्थित है और वह सभी चीजें सभी सजीवों के लिए है और इन सभी चीजों को बचाए रखने के लिए पर्यावरण शिक्षण अति आवश्यक है।

All things are present in our environment and all those things are for all living beings and to maintain all these things environmental education is very necessary.

पर्यावरण शिक्षण के महत्व निम्नलिखित है (Following are the importance of environmental education 🙂

पर्यावरण शिक्षण के अंतर्गत हम लोग पर्यावरण की समस्याओं एवं उनके निदान तथा पर्यावरण का संरक्षण करना सीखते हैं।

Under environmental education, we learn about environmental problems and their solutions and how to protect the environment.

  • पर्यावरण अध्ययन के द्वारा हम पर्यावरण को संतुलित रख सकते हैं।
  • Through environmental studies, we can keep the environment balanced.
  • पर्यावरण शिक्षा में मनुष्य की चेतना को बढ़ाती है।
  • Environmental education enhances human consciousness.
  • पर्यावरण अध्ययन हमें पर्यावरण और मनुष्य की क्रियाओं के बीच के संबंध को दर्शाता है।
  • Environmental studies show us the relationship between the environment and human activities.
  • पर्यावरण अध्ययन से हमें यह ज्ञात होता है कि पर्यावरण के घटक हमारे लिए क्यों आवश्यक होते हैं।
  • Through environmental studies, we get to know why the components of the environment are necessary for us.
  • पर्यावरण अध्ययन से हमें प्रदूषण तथा उससे होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में जानकारी मिलती है।
  • Environmental studies give us information about pollution and its side effects.
  • पर्यावरण अध्ययन के फल स्वरुप हम लोग पर्यावरण का संरक्षण कर सकते हैं।
  • As a result of environmental studies, we can protect the environment.
  • पर्यावरण में उपस्थिति चीज जो हमारे लिए काफी आवश्यक होते हैं उसका उपयोग कैसे करें तथा कम से कम दुरुपयोग हो यह हमें पर्यावरण अध्ययन के द्वारा सीखने को मिलता है।
  • We get to learn through environmental studies, how to use the things which are very important for us in the environment and have the least misuse.

पर्यावरण अध्ययन के उद्देश्य (Objectives of Environmental Studies)

जब हमलोग पर्यावरण शिक्षा प्रदान करते हैं तो हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि उसमें पर्यावरण के महत्व निहित हो अन्यथा वह शिक्षा व्यर्थ है।

When we provide environmental education, we should keep in mind that the importance of environment is contained in it, otherwise that education is useless.

पियाजे के कथन के अनुसार :- बच्चे दुनिया के बारे में अपने समाज का सृजन करते हैं को मध्य नजर रखते हुए पर्यावरण शिक्षण का निम्न उद्देश्य होना चाहिए।

According to Piaget’s statement: – Children create their society about the world, keeping in view that environmental education should have the following objective.

  • पर्यावरण के प्रति विद्यार्थियों में जिज्ञासा, रुचि, कल्पना एवं स्मरण शक्ति का विकास करना।
  • To develop curiosity, interest, imagination and memory power in the students towards the environment.
  • आसपास के पर्यावरण से विद्यार्थियों को भलीभांति परिचित कराना।
  • To acquaint the students with the surrounding environment.
  • विद्यार्थियों में पर्यावरण के प्रति संवेदनशील दृष्टिकोण का विकास करना।
  • To develop a sensitive attitude towards the environment in the students.
  • प्रकृति की विभिन्नता एवं इसके कारणों को विद्यार्थियों को बताना।
  • To explain to the students the diversity of nature and its reasons.
  • पर्यावरण हमारा धरोहर है और हम उसके पालक हैं इस बातों का विद्यार्थियों को ज्ञान देना चाहिए।
  • The environment is our heritage and we are its guardians, students should be given knowledge about this.
  • विद्यार्थियों में भौतिक परिवेश तथा सामाजिक परिवेश के प्रति संवेदनशील तथा जागरूकता का विकास करना।
  • To develop sensitivity and awareness of the physical environment and social environment in the students.
  • मनुष्य के जीवन पर पड़ने वाले पर्यावरण के विभिन्न प्रभावों को बताना।
  • Explain the various effects of environment on human life.
  • पर्यावरण प्रदूषण एवं पर्यावरण के संरक्षण के विषय में संपूर्ण जानकारी देना।
  • To give complete information about environmental pollution and protection of environment.
  • विद्यार्थियों में वास्तविक जीवन की चिंताओं के विषय में समझ उत्पन्न करना।
  • To create understanding among the students about real life concerns.
  • विद्यार्थियों में अच्छे नागरिक के गुण का विकास करना भी पर्यावरण शिक्षण का एक उद्देश्य है।
  • Developing the quality of good citizens in the students is also one of the objectives of environmental education.
  • सार्थक अधिगम के लिए कक्षा – कक्ष की गतिविधियों को विद्यालय के बाहर के परिवेश से जोड़ना।
  • Linking classroom activities with outside school environment for meaningful learning.
  • उपरोक्त सारी बातें पर्यावरण अध्ययन के प्रमुख उद्देश्य हैं।
  • All of the above are the main objectives of environmental studies.

पर्यावरण अध्ययन के क्षेत्र (field of environmental studies)

वैसे तो पर्यावरण अध्ययन के अनेकों क्षेत्र हैं लेकिन उनमें से कुछ प्रमुख क्षेत्र हैं उनका वर्णन निम्नलिखित है:-

Although there are many areas of environmental studies, but some of them are major areas, their description is as follows:-

मानव स्वास्थ्य में (In human health):- मानव एवं पर्यावरण के बीच प्रत्यक्ष संबंध होता है। मानव से जुड़े अनेक को बीमारी पर्यावरण के माध्यम से फैलते हैं जैसे :- हवा, जल, मिट्टी इत्यादि के द्वारा बीमारियां फैलती है। पर्यावरण में होने वाले कई परिवर्तन का प्रभाव सीधा मानव के स्वास्थ्य पर पड़ता है। इसीलिए मानव स्वास्थ्य में पर्यावरण अध्ययन का आवश्यक क्षेत्र माना गया है।

There is a direct relationship between humans and the environment. Many diseases related to humans spread through the environment such as: – Diseases spread through air, water, soil etc. Many changes taking place in the environment directly affect the health of human beings. That is why environmental studies have been considered an essential area in human health.

जैव प्रौद्योगिकी में (In biotechnology):- आधुनिक युग को जैव प्रौद्योगिकी का युग कहा जाता है। जैव प्रौद्योगिकी की सहायता से ही पर्यावरण संरक्षण तथा पर्यावरण की गुणवत्ता को बनाए रखने के लिए विभिन्न प्रयास किए जाते हैं। इसीलिए इसकी अध्ययन महत्वपूर्ण है।

The modern era is called the age of biotechnology. With the help of biotechnology, various efforts are made to protect the environment and maintain the quality of the environment. That is why its study is important.

पारिस्थितिकी में (In ecology):- पारिस्थितिकी विज्ञान का वह क्षेत्र है जिसमें जीव तथा उसके बाद आवरण के आपसी संबंधों का अध्ययन करते हैं। अतः पारिस्थितिकी पर्यावरण अध्ययन का महत्वपूर्ण क्षेत्र है।

Ecology is the field of science that studies the relationship between organisms and their subsequent cover. Hence ecology is an important area of ​​environmental study.

इस लेख में हम लोगों ने जाना कि पर्यावरण अध्ययन क्या है? पर्यावरण अध्ययन के क्षेत्र कौन-कौन से हैं तथा पर्यावरण अध्ययन का महत्व एवं उद्देश्य क्या है।

“In this article we learned what is environmental studies? What are the areas of environmental studies and what is the importance and purpose of environmental studies.”

Read more – 

  • पर्यावरण किसे कहते हैं?
  • पर्यावरण के संरक्षण क्या है?
CTET Preparation Group पारिस्थितिकी तंत्र (Ecosystem) क्या हैCLICK HERE