पर्यावरण शिक्षण V V I Question For CTET & TET

पर्यावरण शिक्षण V V I Question For CTET & TET

 

Q. पर्यावरण शिक्षण महत्वपूर्ण है क्योंकि

  1. यह नागरिक चेतना को बढ़ाती है।
  2. पर्यावरण एवं मानव क्रियाओं के अंत: संबंध को दर्शाती है।
  3. बच्चों में उनके परिवेश के विषय में समझ विकसित करती है।
  4. उपरोक्त सभी

Ans. :- (4)

पर्यावरण शिक्षण V V I Question For CTET & TET

Q. ईवीएस शिक्षण अधिगम में कक्षा में प्राप्त अधिगम को विद्यालय के बाहर के जीवन से जोड़ने और इसे समृद्ध करने का तात्पर्य है : [CTET 2018]

  1. पाठ्य पुस्तकों से बाहर जाना।
  2. वैश्विक पर्यावरण नियमों और चिंताओं को पाठ्य पुस्तकों से लिंक करना।
  3. पूर्ण विद्यालय दृष्टिकोण।
  4. पाठ्यचर्या से बाहर जाना।

Ans. :- (2)

पर्यावरण शिक्षण V V I Question For CTET & TET

Q. प्राथमिक कक्षाओं में पर्यावरण अध्ययन पढ़ाने के लिए निम्नलिखित में से कौन सा उद्देश्य से संबंधित नहीं है? [CTET 2015]

  1. विज्ञान के आधारभूत प्रत्ययों और सिद्धांतों को रखकर याद कर लेना।
  2. पर्यावरण को खोजने के अवसर प्रदान करना।
  3. अवलोकन, मापन, भविष्य कथन और वर्गीकरण जैसे कौशलों का विकास करना।
  4. बहुत ही कमाल सामाजिक परिवेश के प्रति संवेदनशीलता विकास करना।

Ans. :- (1)

Q. ईवीएस का संक्षेपण………….. अर्थ में प्रयुक्त होता है [CTET 2014]

  1. एनवायरमेंटल स्किल
  2. एनवायरमेंटल साइंस
  3. एनवायरमेंटल सोर्सेज
  4. एनवायरमेंटल स्टडीज

Ans. :- (4)

Q. निम्नलिखित में से कौन सा प्राथमिक स्तर पर पर्यावरण अध्ययन के शिक्षण का उद्देश्य नहीं है? [CTET 2014]

  1. कक्षा कक्ष में होने वाले अधिगम को विद्यालय के बाहर की दुनिया के साथ जोड़ना।
  2. शिक्षक कक्षा कक्ष में कड़े अनुशासन को सुनिश्चित करें।
  3. बच्चों को प्रश्न पूछने के लिए अवश्य अभी प्रेरित करना चाहिए।
  4. बच्चों को अपने निकटतम परिवेश से परिचय प्राप्त करने के लिए अवश्य अभी प्रेरित करना चाहिए।

Ans. :- (2)

पर्यावरण शिक्षण V V I Question For CTET & TET

Q. प्राथमिक स्तर पर ईवीएस की पढ़ाई का एक प्रमुख उद्देश्य है [CTET 2014]

  1. विषय की मूल संकल्पना ओं की गहन समझ विकसित करना है।
  2. अगले स्तर के अध्ययन के लिए विद्यार्थियों को तैयार करना।
  3. कक्षा कक्ष की पढ़ाई को शिक्षार्थी के विद्यालय से बाहर के जीवन से संबंधित करने में सहायता करना।
  4. स्वतंत्र रूप से हस्तसिद्ध क्रियाकलाप को करने का कौशल अर्जित करना।

Ans. :- (3)

Q. पर्यावरण अध्ययन के शिक्षण हेतु निम्न में से कौन सा उद्देश्य आवश्यक नहीं है? [UPTET 2017]

  1. आर्थिक और सामाजिक पर्यावरण के प्रति संवेदनशीलता विकसित करना।
  2. विज्ञान के आधारभूत प्रात्ययों और सिद्धांतों को रद्द कर याद कर लेना।
  3. पर्यावरण को खोजने के अवसर प्रदान करना।
  4. अवलोकन, मापन, भविष्य कथन और वर्गीकरण जैसे कौशलों का विकास करना।

Ans. :- (2)

Q. निम्नलिखित में से कौन सा प्राथमिक स्तर पर विज्ञान शिक्षण का वांछित उद्देश्य है? [REET 2016]

  1. विज्ञान के तथ्यों और सिद्धांतों एवं इसके अनुप्रयोगों को जानाना।
  2. प्राकृतिक जिज्ञासा, सौंदर्यपरकता की अनुभूति तथा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी में सृजनात्मकता का पोषण।
  3. ईमानदारी, सत्यनिष्ठा और सहयोग के मूल्यों को आत्मसात करना।
  4. उपरोक्त सभी

Ans. :- (4)

पर्यावरण शिक्षण V V I Question For CTET & TET

Q. बच्चे दुनिया के बारे में अपनी समाज का सृजन करते हैं”। इस कथन का श्रेय………… को जाता है : [BTET 2011]

  1. पावलव
  2. पियाजे
  3. कोहलबर्ग
  4. स्किनर

Ans. :- (2)

Q. पर्यावरण अध्ययन की कक्षा में बच्चों के अनुभवों को महत्व देना चाहिए क्योंकि [CGTET 2011]

  1. बच्चों को अपनी बात बताने में आनंद आता है।
  2. इससे बच्चे का आदायी कौशल परिमार्जित होती है।
  3. अभिव्यक्ति के कौशल का विकास होता है।
  4. विषय को बच्चों के अनुभवों से जोड़ने पर सीखने की प्रक्रिया को बढ़ावा मिलती है।

Ans. :- (4)

Read More :-

CTET Prepration Group : – Join Now

इसे भी पढ़ें :-