रासायनिक अभिक्रियाएँ एवं समीकरण 10th BSEB Science

रासायनिक अभिक्रियाएँ एवं समीकरण 10th BSEB

Welcome to rkrstudy.net.(Bihar Board science solution) आज हम लोग बिहार बोर्ड के दसवीं कक्षा के विज्ञान विषय के  Chapter 1 रासायनिक अभिक्रियाएँ एवं समीकरण के अभ्यास में दिए गए सभी प्रश्नों का हल करेंगे। पहले हमलोग अभ्यास प्रश्नों का हल करेंगे। उसके बाद Chapter के अंदर दिए गए सभी प्रश्नों का हल करेंगे।

रासायनिक अभिक्रियाएँ एवं समीकरण 10th BSEB

अभ्यास

1. नीचे दी गयी अभिक्रिया के संबंध में कौन-सा कथन असत्य है?
2Pbo(s) + C(s) → 2Pb(s) + CO2(g)
(a) सीसा अपचयित हो रहा है।
(b) कार्बन डाइऑक्साइड उपचयित हो रहा है।
(c) कार्बन उपचयित हो रहा है।
(d) लेड ऑक्साइड अपचयित हो रहा है।
(i) (a) एवं (b)
(ii) (a) एवं (c)
(iii) (a) ,(b) एवं (c)
(iv) ये सभी
Ans :-
(i) (a) एवं (b)

इस अभिक्रिया में सीसा (Pb) अपचयित हो रहा है कार्बन डाइऑक्साइड(CO2) उपचयित हो रहा है।

2.Fe2O3 + 2Al → Al2O3 +2Fe
ऊपर दी गयी अभिक्रिया किस प्रकार की है?
(a) संयोजन अभिक्रिया 
(b) द्विविस्थापन अभिक्रिया
(c) वियोजन अभिक्रिया
(d) विस्थापन अभिक्रिया

Ans :- (d) विस्थापन अभिक्रिया

3.लौह-चूर्ण पर तनु हाइड्रोक्लोरिक अम्ल डालने से क्या होता है? सही उत्तर पर निशान लगाइए।
(a) हाइड्रोजन गैस एवं आयरन क्लोराइड बनता है।
(b) क्लोरीन गैस एवं आयरन हाइड्रॉक्साइड बनता है।
(c) कोई अभिक्रिया नहीं होती है।
(d) आयरन लवण एवं जल बनता है।

Ans. :- जब हम लौह चूर्ण पर तनु हाइड्रोक्लोरिक अम्ल डालते हैं तो आयन क्लोराइड एवं हाइड्रोजन गैस बनता है।€

     Fe(s) + 2Hcl (aq) → Fecl2 + H2

4.संतुलित रासायनिक समीकरण क्या है? रासायनिक समीकरण को संतुलित करना क्यों आवश्यक है?

Ans. :- वैसे रासायनिक समीकरण जिसमें अभिकारक एवं प्रतिफलों में उपस्थित प्रत्येक तत्वों के परमाणुओं की संख्या समान होती है। इस प्रकार का समीकरण संतुलित रासायनिक समीकरण कहलाता है।
Example :-
      H2 + Cl2  →  2HCl

अभिकारक में

प्रतिफल में

H के परमाणु संख्या

2

2

Cl के परमाणु संख्या

2

2

Bihar Board Science Solution 10th

5.निम्न कथनों को रासायनिक समीकरण के रूप में परिवर्तित कर उन्हें संतुलित कीजिए
(a) नाइट्रोजन हाइड्रोजन गैस से संयोग करके अमोनिया बनाता है।

Ans. :-  N2(g) + 3H2(g)  →   2NH2 (g)

(b) हाइड्रोजन सल्फाइड गैस का वायु में दहन होने पर जल एवं सल्फर डाइऑक्साइड बनता है।

Ans. :-2H2S(g) + 3O2(g) → 2H2O(I) + 2SO2(g)

(c) ऐलुमिनियम सल्फेट के साथ अभिक्रिया कर बेरियम क्लोराइड, ऐलुमिनियम क्लोराइड एवं बेरियम सल्फेट का अवक्षेप देता है।

Ans. :-3BaCl2 (aq) + Al2(SO4)3 (aq) → 2AlCl3(aq) + 3BaSO4 (अवक्षेप)

(d) पोटैशियम धातु जल के साथ अभिक्रिया करके पोटैशियम हाइड्रॉक्साइड एवं हाइड्रोजन गैस देती है।

Ans. :-2K(s) + 2H2O(l) → 2KOH (aq) + H2

Bihar Board Science Solution 10th

6. निम्न रासायनिक समीकरणों को संतुलित कीजिए
(a) HNO3 + Ca(OH)2 → Ca(NO3)2+ H2O

Ans. :-2HNO3 + Ca(OH)2 → Ca(NO3)2+ 2H2O

(b) NaOH + H2SO4→ Na2SO4 + H2O

Ans. :-2NaOH + H2SOA → Na2SO4+ 2H2O

(c) NaCl + AgNO3 → AgCl + NaNO3

Ans. :-NaCl + AgNO3→ AgCl+ NaNO3 (पहले से ही संतुलित है)

(d) BaCl2 + H2SO4→ BaSO4 + HCl

Ans. :-BaCl2 + H2SO4 → BaSO4 + 2HCl

7.निम्न अभिक्रियाओं के लिए संतुलित रासायनिक समीकरण लिखिए

(a) कैल्सियम हाइड्रॉक्साइड + कार्बन डाइऑक्साइड → कैल्सियम कार्बोनेट + जल

Ans. :-Ca(OH)2 + CO2 → CaCO3 + H2O

(b) जिंक + सिल्वर नाइट्रेट → जिंक नाइट्रेट + सिल्वर

Ans. :-Zn + 2AgNO3 → Zn (NO3)2 + 2Ag

(c) ऐलुमिनियम + कॉपर क्लोराइड→ ऐलुमिनियम क्लोराइड + कॉपर

Ans. :-2Al + 3Cucl2 → 2AlCl3 + 3Cu

(d) बेरियम क्लोराइड +पोटैशियम सल्फेट → बेरियम सल्फेट + पोटैशियम क्लोराइड

Ans. :-BaCl2 +K2SO4 → BaSO4 + 2KCl

8.निम्न अभिक्रियाओं के लिए संतुलित रासायनिक समीकरण लिखिए एवं प्रत्येक अभिक्रिया का प्रकार बताइए

(a) पोटैशियम ब्रोमाइड (aq) + बेरियम आयोडाइड (aq) → पोटैशियम आयोडाइड (aq) + बेरियम ब्रोमाइड (υ)

Ans. :-2KBr (aq) + BaI2(aq) → 2KI (aq) + BaBr2(s) (द्विविस्थापन अभिक्रिया)

(b)जिंक कार्बोनेट (s) → जिंक ऑक्साइड (s) + कार्बन डाइऑक्साइड (g) 

Ans. :- ZnCO3(s) → ZnO(s) + CO2(g) (वियोजन अभिक्रिया )

(c) हाइड्रोजन (g) + क्लोरीन (g) → हाइड्रोजन क्लोराइड (g)

Ans. :-H2(g) + Cl2(g)→ 2HCl(g) (संयोजन अभिक्रिया)

(d) मैग्नीशियम (s) + हाइड्रोक्लोरिक अम्ल (aq) → मैग्नीशियम क्लोराइड (aq) + हाइड्रोजन (g)

Ans. :-Mg(s) + 2HCl(aq) → MgCl2(aq) + H2(g) (विस्थापन अभिक्रिया) 

Bihar Board Science Solution 10th

9.ऊष्माक्षेपी एवं ऊष्माशोषी अभिक्रिया का क्या अर्थ है? उदाहरण दीजिए।

Ans. :- वैसी रासायनिक अभिक्रिया है जिसमें अभिक्रिया के बाद उष्मा अर्थात ऊर्जा का निर्माण होता है ऊष्माक्षेपी अभिक्रिया कहलाता है।

Example :- CH4 + 2O2 + 2H2O + उष्मा 

वैसी रासायनिक अभिक्रियाएं जिसमें अभिक्रिया के बाद उष्मा अर्थात ऊर्जा का शोषण होता है, ऊष्माशोषी रासायनिक अभिक्रिया कहलाता है।

रासायनिक अभिक्रियाएँ एवं समीकरण 10th BSEB

10. श्वसन को ऊष्माक्षेपी अभिक्रिया क्यों कहते हैं? वर्णन कीजिए।

Ans. :- जब हम लोग भोजन के रूप में रोटी, चावल इत्यादि को ग्रहण करते हैं। तो इसमें कार्बोहाइड्रेट पाया जाता है। जब भोजन हमारे शरीर में पचता है। तो वह छोटे-छोटे अणुओ में टूटकर ग्लूकोज प्रदान करता है। यह ग्लूकोज हमारे शरीर के कोशिका में उपस्थित अक्सीजन से अभिक्रिया करके हमें ऊर्जा प्रदान करती है। इस पूरी प्रक्रिया में हमारे शरीर को ऊर्जा मिलती है। अर्थात ऊर्जा का निर्माण होता है इसीलिए श्वसन को ऊष्माक्षेपी अभिक्रिया कहा जाता है।

11.वियोजन अभिक्रिया को संयोजन अभिक्रिया के विपरीत क्यों कहा जाता है? इन अभिक्रियाओं के लिए समीकरण लिखिए।

Ans. :- वैसे रासायनिक अभिक्रिया जिसमे एक अभिकारक अभिक्रिया करके दो या दो से अधिक होती पतिफल प्रदान करता है, वियोजन अभिक्रिया कहलाता है।

CaCO3(s)→ Cao(s) + CO2(g) (वियोजन अभिक्रिया)

वैसे रासायनिक अभिक्रिया जिसमें दो या दो से अधिक अभिक्रिया अभिक्रिया करके एक पतिफल प्रदान करता है, संयोजन अभिक्रिया कहलाता है।

CaO(g) + H2O(l) → Ca(OH)2(aq) (संयोजन अभिक्रिया)

वियोजन अभिक्रिया में एक अभिकारक एक से अधिक प्रतिफल बनाते हैं, जबकि संयोजन अभिक्रिया में एक से अधिक अभिकारक मिलकर एक प्रतिकूल बनाते हैं। इसीलिए वियोजन अभिक्रिया को संयोजन अभिक्रिया के विपरीत कहा गया है।

Bihar Board Science Solution 10th

12.उन वियोजन अभिक्रियाओं के एक-एक समीकरण लिखिए जिनमें ऊष्मा, प्रकाश एवं विद्युत के रूप में ऊर्जा प्रदान की जाती है।

Ans. :- उष्मा प्रदान करने वाली वियोजन अभिक्रिया
           CaCO3 →  CaO + CO2
प्रकाश प्रदान करने वाली वियोजन अभिक्रिया
           2AgBr →  2Ag + 2Br
विद्युत के रूप में ऊर्जा प्रदान करने वाली अभिक्रिया
          2H2O →  2H2 + O2

13.विस्थापन एवं द्विविस्थापन अभिक्रियाओं में क्या अंतर है? इन अभिक्रियाओं के समीकरण लिखिए।

Ans. :- विस्थापन अभिक्रिया में अभिकारक के यौगिक में उपस्थित तुम क्रियाशील धातु का विस्थापन अधिक क्रियाशील धातु द्वारा होता है।
    रासायनिक अभिक्रियाएँ एवं समीकरण 10th BSEB

जबकि विस्थापन अभिक्रिया में अभिकारक अपने आयान का आदान प्रदान करके योगिक का निर्माण करते हैं।

"<yoastmark

14.सिल्वर के शोधन में, सिल्वर नाइट्रेट के विलयन से सिल्वर प्राप्त करने के लिए कॉपर धातु द्वारा विस्थापन किया जाता है। इस प्रक्रिया के लिए अभिक्रिया लिखिए।

 Ans:-"<yoastmark

15.अवक्षेपण अभिक्रिया से आप क्या समझते हैं? उदाहरण देकर समझाइए।

Ans. :- वैसे  रासायनिक अभिक्रिया जिसमें अभिक्रिया के फलस्वरूप प्रतिफल अवक्षेप  के रूप में ठोस पदार्थ का निर्माण करता है  अवक्षेपन अभिक्रिया कहलाता है 

 Ans:-

"<yoastmark

16.ऑक्सीजन के योग या ह्रास के आधार पर निम्न पदों की व्याख्या कीजिए। प्रत्येक के लिए दो उदाहरण दीजिए –
(a) उपचयन

Ans. :- जब किसी रासायनिक अभिक्रिया में ऑक्सीजन का योग या हाइड्रोजन का ह्रास हो तो उसे उपचयन कहते हैं।

"<yoastmark

(b) अपचयन 

Ans. :- जब किसी रासायनिक अभिक्रिया में ऑक्सीजन का ह्रास या हाइड्रोजन का योग होता हो तो उस अभिक्रिया को अपचयन कहते हैं।

"<yoastmark

रासायनिक अभिक्रियाएँ एवं समीकरण

17.एक भूरे रंग का चमकदार तत्त्व ‘x’ को वायु की उपस्थिति में गर्म करने पर वह काले रंग का हो जाता है। इस तत्त्व ‘x’ एवं उस काले रंग के यौगिक का नाम बताइए।

Ans. :- भूरे रंग का चमकदार तत्व कॉपर है तथा काले रंग का योगिक कॉपर ऑक्साइड है।
          Cu + O2 →  CuO

18.लोहे की वस्तुओं को हम पेंट क्यों करते हैं?

Ans . :- जब कोई धातु अपने आस-पास अम्ल या आद्रता के संपर्क में आता है तो वह संक्षारित  हो जाता है। इस प्रक्रिया को संक्षारण कहते हैं। संक्षारित होने से वह धातु धीरे-धीरे खराब होने लगता है। चूँकि लोहा भी एक धातु है इसीलिए हम लोहे से बने वस्तुओं को पेंट करते हैं। ताकि वहा अम्ल या आद्रता के संपर्क में नहीं आ सके। अतः हम कह सकते हैं कि संक्षारण से बचाने के लिए लोहे की वस्तु पर पेंट किया जाता है।

19.तेल एवं वसायुक्त खाद्य पदार्थों को नाइट्रोजन से प्रभावित क्यों किया जाता है?

Ans. :- वसायुक्त या तैलीय खाद्य पदार्थ का वातावरण में उपस्थित ऑक्सीजन के साथ अभिक्रिया होने से वह उपचयित हो जाता है। जिसके कारण उस खाद्य पदार्थ का स्वाद एवं गंध दोनों बदल जाता है। इस प्रक्रिया को विकृतगंधिता कहते हैं। नाइट्रोजन गैस ऑक्सीजन की तुलना में खाद्य पदार्थ को अधिक दिनों तक सुरक्षित रखता है। इसीलिए तेल एवं वसायुक्त खाद्य पदार्थों को नाइट्रोजन से प्रभावित किया जाता है।

20.निम्न पदों का वर्णन कीजिए तथा प्रत्येक का एक-एक उदाहरण दीजिए 
(a) संक्षारण

Ans. :- जब कोई धातु अपने आस-पास अम्ल या आद्रता के संपर्क में आता है तो वह संक्षारित  हो जाता है इस प्रक्रिया को संक्षारण कहते हैं।

(b) विकृतगंधिता

Ans. :- वसायुक्त या तैलीय खाद्य पदार्थ का वातावरण में उपस्थित ऑक्सीजन के साथ अभिक्रिया होने से वह उपचयित हो जाता है जिसके कारण उस खाद्य पदार्थ का स्वाद एवं गंध दोनों बदल जाता है इस प्रक्रिया को विकृतगंधिता कहते हैं।

रासायनिक अभिक्रियाएँ एवं समीकरण 10th BSEB

Math Short-cut Trick :- Click Here