सृजनशील बालक किसे कहते हैं? अर्थ परिभाषा एवं पहचान

हमारे "CTET PREPRATION" Whatsapp ग्रुप को अभी Join करें......CLICK HERE

इस लेख के माध्यम से हम लोग जानेंगे कि सृजनशील बालक किसे कहते हैं? सृजनशील बालक की परिभाषा क्या है तथा सृजनशील बालक की पहचान क्या है?

सृजनशील बालक का अर्थ

सृजनशील का अर्थ होता है- सृजन करना अर्थात नए चीजों का निर्माण करना। अतः सृजनशील बालक अर्थ हुआ नए चीजों का सृजन या निर्माण करने वाला बालक।

सृजनशील बालक किसे कहते हैं?

यदि आप  CTET या  TET EXAMS की तैयारी कर रहें हैं तो RKRSTUDY.NET पर TET का बेहतरीन NOTES उपलब्ध है NOTES का Link नीचे दिया गया है :-

सृजनशील बालक की परिभाषा

वैसे बालक जो पहले से ज्ञात तथ्यों के आधार पर नए तथ्यों एवं नए विचारों का सृजन करते हैं उसे सृजनशील बालक कहते हैं।

मनोवैज्ञानिकों के अनुसार सृजनशील बालक की परिभाषा

जेम्स ड्रेवर के अनुसार :- अनिवार्य रूप से किसी नई वस्तु का सृजन करना ही सृजनात्मकता है।

सृजनशील बालक नई खोज करने के प्रति उत्सुक रहते हैं। उसे जितना पढ़ाया जाता है वह उतना मैं ही अपने आप को संतुष्ट नहीं मानते हैं वह हमेशा कुछ और नई खोज करने के तत्पर रहते हैं। सृजनशील बालक मैं इस प्रकार का गुण पाया जाता है।

सृजनशील बालक किसे कहते हैं?

सृजनशील बालक की पहचान

  • सृजनशील बालक को में मौलिकता के तत्व पाए जाते हैं। इसीलिए इस बालक का दृष्टिकोण सामान्य व्यक्तियों से अलग होता है।
  • स्वतंत्र निर्णय लेने की क्षमता सृजनशीलता की पहचान होती है। सृजनशील बालक में इस प्रकार का गुण पाया जाता है।
  • हंसमुख प्रवृत्ति भी सृजनात्मकता की पहचान होती है। सृजनशील बालों को में हंसी मजाक की प्रवृत्ति पाई जाती है।
  • सृजनशील बालक हमेशा उत्सुक रहते हैं।
  • इस प्रकार के बालकों में संवेदनशीलता अधिक पाई जाती है।
  • सर्जनशील बालकों में स्वायत्तता (Autonomy) का भाव पाया जाता है।

सृजनशील बालक किसे कहते हैं?

सृजनशील बालकों की शिक्षा

  • अध्यापक को विद्यालय में सृजनशील बालकों की पहचान करनी चाहिए ताकि उसके योग्यता एवं क्षमता का सर्वांगीण विकास हो सके तथा इसका लाभ समाज को मिल सके।
  • शिक्षकों को स्वयं सृजनशील बालकों के लिए प्रेरणा का स्रोत कार्य करनी चाहिए अर्थात उच्च नैतिक स्तर, ईमानदारी, मानवता, समानता इत्यादि का गुण प्रदर्शित करना चाहिए।
  • अध्यापकों सृजनशील कार्यों के माध्यम से बालकों के सामने उदाहरण प्रस्तुत करना चाहिए, इससे बालकों के अंदर छिपे हुए सृजनात्मकता जैसे विचार उभर कर सामने आएगी।
  • शिक्षक को छात्रों के समक्ष ऐसी समस्या उत्पन्न करना चाहिए, जो बिल्कुल नवीन हो, इससे विद्यार्थी समस्या के समाधान में सृजनात्मक सोच का उपयोग करेंगे।
  • बालकों को विभिन्न क्षेत्रों के महान खोजकर्ता के जीवन परिचय के बारे में छात्रों को बताना चाहिए, जिससे कि उन्हें प्रेरणा मिले। जैसे :- एडिसन, न्यूटन, अब्दुल कलाम, जगदीश चंद्र बसु इत्यादि महान व्यक्तियों के बारे में बालकों को बताना चाहिए।

Read more:-

CTET Whatsapp Group : – Join Now

इसे भी पढ़ें :-

CTET PREPRATION WHATSAPP GROUP Join Now