उपसर्ग किसे कहते हैं? उपसर्ग की परिभाषा क्या है?

आज के इस लेख में हम लोग उपसर्ग के बारे में अध्ययन करेंगे। उपसर्ग एक हिंदी व्याकरण के टॉपिक है। हम लोग आज के इस लेख में यह जानेंगे कि उपसर्ग किसे कहते हैं? उपसर्ग की परिभाषा क्या है तथा उपसर्ग कितने प्रकार के होते हैं? तो चलिए हम लोग जानते हैं कि उपसर्ग क्या है?

उपसर्ग किसे कहते हैं?

उपसर्ग एक शब्दांश होता है जो किसी सार्थक शब्द के पहले लगकर उस शब्द का अर्थ परिवर्तित कर देता है। उदाहरण :- हार एक सार्थक शब्द है जिसका अर्थ होता है पराजय। लेकिन इसी हार शब्द से पहले (प्र) शब्दांश को लगा देते हैं तो हमारा नया शब्द प्रहार बनता है जिसका अर्थ होता है :- चोट

हमलोगों ने उदाहरण में देखा कि (प्र) शब्दांश को लगा देने से हार शब्द का अर्थ में परिवर्तन हो जाता है। इसी (प्र) को हमलोग उपसर्ग कहते हैं।

उपसर्ग की परिभाषा क्या है?

वह शब्दांश जो किसी मूल शब्द के पहले लगाकर नए शब्द का निर्माण करता है तथा नए शब्द का अर्थ पहले वाले मूल शब्दों से भिन्न होता है उस शब्दांश को उपसर्ग कहते हैं।

 उपसर्ग कितने प्रकार के होते हैं

हिंदी भाषा में प्रयुक्त होने वाले उपसर्ग मुख्यता तीन प्रकार के होते हैं :-

1.संस्कृत के उपसर्ग (तत्सम्)
2.हिंदी के उपसर्ग (तद्भव)
3.आगत उपसर्ग (विदेशी भाषा, उर्दू, फारसी, अरबी एवं अंग्रेजी)

संस्कृत के उपसर्ग को तत्सम् उपसर्ग भी कहा जाता है। संस्कृत के कुल 22 उपसर्ग हैं जिनका प्रयोग हिंदी भाषा में किया जाता है।

उपसर्ग अर्थ
अति अधिक
अधि अधिक, ऊपर, श्रेष्ठ
अनु पीछे, क्रम, समानता
अप् बुड़ा, अभाव, विपरीत
अपि निकट
अभि सामने, अधिक, अच्छा
अव पतन, हिनता
तक, सब तरफ से, ओर
उत् , उद् ऊपर, अधिक
उप समीप, सहायक, छोटा
दु: बना, बाहर, निषेध
पुरा विपरीत, अनादर
परि चारों ओर, आसपास
प्रति विपरीत, समान, प्रत्येक
वि विशेष, रोहित
सम् ,सन् संयोग, पूर्णता
सु अच्छा, सरल

 

ऊपर हम लोगों ने संस्कृत के उपसर्ग को देखा। अब हम लोग हिंदी के उपसर्ग को जानते हैं।

हिंदी के उपसर्ग (तद्भव) मूलता संस्कृत से ही विकसित हुए हैं। इनकी कुल संख्या 10 है जो निम्न है:-

उपसर्ग अर्थ
निषेध, अभाव
आध् आधा
अन् अभाव, निषेध
उन एक कम
हिनता, नहीं
का, कु बुरा
स, सु अच्छा, सहित
साथ, सहित
दु बुरा, हीन
नि नहीं, अभाव

 

अब हम लोग आगत उपसर्ग के बारे में जानते हैं।

आगत उपसर्ग हिंदी में विदेशी भाषाओं से आए हैं यह शब्द मुख्यतः उर्दू एवं अंग्रेजी भाषा से विकसित हुए हैं जो नियम हैं :-

उर्दू के उपसर्ग

उपसर्ग अर्थ
कम थोड़ा, हीन
खुश अच्छा
गैर नहीं, अभाव
अनुसार में
हम बराबर
हर प्रत्येक

 

अंग्रेजी के कुछ प्रमुख उपसर्ग निम्नलिखित हैं:-

उपसर्ग अर्थ
सब अधीन, नीचे
डिप्टी सहायक
वॉइस सहायक
जनरल प्रधान
चीफ प्रमुख
हेड मुख्य
डबल दोगुना
फूल पूरा
हाफ आधा

 

आज हम लोगों ने उपसर्ग से जुड़ी लगभग सारी जानकारी को जाना। हम लोगों ने उपरोक्त लेख में जाना कि उपसर्ग किसे कहते हैं? उपसर्ग की परिभाषा क्या है तथा उपसर्ग कितने प्रकार के होते हैं।

इसे भी पढ़ें :-