आज के इस लेख में आप विद्यालय के बारे में अध्ययन करेंगे। आप इस लेख के माध्यम से जानेंगे कि- विद्यालय क्या है? विद्यालय का अर्थ क्या है एवं विद्यालय की परिभाषा क्या है? सबसे पहले हम लोग जानते हैं कि विद्यालय किसे कहते हैं? 

विद्यालय क्या है?

विद्यालय का अर्थ क्या है?

विद्यालय एक हिंदी शब्द है जो दो शब्दों से मिलकर बना है- विद्या और आलय

विद्या का अर्थ विद्या या ज्ञान होता है। वहीं दूसरा शब्द आलय का अर्थ घर होता है।

यानी कि हम कह सकते हैं कि विद्या के घर को विद्यालय कहा जाता है।

विद्यालय की परिभाषा

विद्यालय एक ऐसा संस्थान है जहां शिक्षा प्राप्त की जाती है।

दूसरे शब्दों में,

वैसा संस्थान जहां बालक के शारीरिक मानसिक बौद्धिक एवं नैतिक गुणों का विकास कराया जाता है विद्यालय कहलाता है।

राॅस के अनुसार – विद्यालय में संस्थाएं हैं जिसको सभ्य मनुष्य द्वारा इस उद्देश्य से स्थापित किया जाता है कि समाज में सुव्यवस्थित और योग्य सदस्यता के लिए बालकों को तैयार करने में सहायता मिले।

विद्यालय क्या है?

जॉन डीवी के अनुसार- विद्यालय कैसा विशिष्ट वातावरण है जहां जीवन के कुछ गुणों और कुछ विशेष प्रकार की क्रियाएं तथा व्यवसायों की शिक्षा किस उद्देश्य से दी जाती है कि बालक का विकास सभी दिशा में हो सके।

टी. पी. नन के अनुसार – किसी राष्ट्र के विद्यालय उसके जीवन के अंग होते हैं।

एम. एल. जैक्स – के अनुसार विद्यालय एक प्रकार से घर का विस्तार होता है।

यानी कि उपरोक्त सारे विचारकों के मतों का अगर हमने चोर की बात करें तो इससे स्पष्ट होता है कि विद्यालय एक लघु परिवार है। विद्या का घर है। जहां शिक्षार्थी को सर्वांगीण विकास कराया जाता है।

इस लेख के माध्यम से आपने विद्यालय के बारे में अध्ययन किया आपने जाना कि विद्यालय क्या है? विद्यालय किसे कहते हैं?

मैं उम्मीद करता हूं कि यह लेख आपको पसंद आई होगी तथा यह आपके लिए उपयोगी भी होगा। इसी तरह के अन्य लेख को पढ़ने के लिए पढ़ते रहिए…..RKRSTUDY.NET

CTET Preparation Group भाषा का अर्थ एवं भाषा की परिभाषाCLICK HERE